आईएसआईएस 20 भारतीयों को भारत पर हमले के लिए कर रहा तैयार

आईएसआईएस 20 भारतीयों को भारत पर हमले के लिए कर रहा तैयार

R

खुफिया एजेंसियों के मुताबिक आईएसआईएस अफगानिस्तान कैंप में भारतीयों को ट्रेंड कर रहा है। इनका उद्देश्य भारत में किसी विशेष हमले को अंजाम देना है।

नई दिल्ली : आतंकी संगठन का अगला निशाना भारत हो सकता है और इसके लिए वो भारत के ही कुछ युवकों का इस्तेमाल करने की फिराक में है। इसके लिए बाकायदा वो 20 भारतीयों को दहशत फैलाने की ट्रेनिंग दे रहा है। ऐसा अंदेशा खतरा भारत की खुफिया एजेंसियों ने जाहिर किया है। खुफिया एजेंसियों के मुताबिक आईएसआईएस अफगानिस्तान के नंगरहार कैंप में भारतीयों को ट्रेंड कर रहा है। इनका उद्देश्य भारत और उसके पड़ोसी देश बाग्लादेश में किसी विशेष हमले को अंजाम देना है।

डेक्कन क्रॉनिकल की रिपोर्ट के मुताबिक खुफिया एंजेसी रॉ ने हाल ही में केंद्र सरकार को एक रिपोर्ट दी है। इसमें इस बात का खतरा जताया गया है कि आईएसआईएस भारत में अपनी मौजूदगी दर्ज कराना चाहता है और वो इसके लिए किसी हमले को अंजाम दे सकता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि संभवत दक्षिण भारत के कुछ युवकों को आतंकी संगठन अफगानिस्तान में भारत पर हमले के लिए ट्रेंड कर रहा है। रिपोर्ट के अनुसार, जलालाबाद के पास कैंप में मौजूद ये युवक भारत से खाड़ी देशों को गए और वहां से अफगानिस्तान पहुंचे हैं। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने हाल ही में दक्षिण भारत में खासकर केरल में काफी सक्रिय रही है और वहां ये कई ऐसे युवकों की भी गिरफ्तारियां की हैं, जिन पर आईएसआईएस से संबंध रखने का आरोप है। रॉ ने अपनी जानकारी एनआईए और दूसरी खुफिया एजेंसियों के साथ भी साझा की है। ये कोई पहला मौका नहीं है, जब भारत में आतंक फैलाने के आईएसआईएस के इरादे का खुलासा हुआ हो। भारत के साथ-साथ बांग्लादेश और मालदीव भी संगठन के निशाने पर बताए जा रहे हैं। इन देशों के रास्ते से भी आतंकी भारत में आ सकते हैं। बांग्लादेश के ढाका में आईएसआईएस ने पिछले साल एक बड़े आतंकी हमले को अंजाम दिया था। हालांकि खुफिया एजेंसिया किसी भी संगठन की भारत विरोधी गतिविधियों को नाकाम करने के लिए लगातार काम कर रही हैं। रॉ और एनआईए के साथ-साथ आईबी भी इन सूचनाओं के बाद चौकन्नी है।

Source : Oneindia

facebooktwittergoogle_pluspinterestfacebooktwittergoogle_pluspinterest

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *